केजरीवाल बोले- 1 अक्टूबर से सब्सिडी केवल उन्हीं लोगों को मिलेगी, जो इसकी मांग करेंगे

``` ```

दिल्ली में 1 अक्टूबर से बिजली सब्सिडी केवल उन्हीं लोगों को मिलेगी, जो इसकी मांग करेंगे। दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को कहा कि हम लोगों को ऑप्शन देंगे कि बिजली सब्सिडी की आपको जरूरत है या नहीं। जो लोग नहीं चाहेंगे, उन्हें बिजली की सब्सिडी नहीं मिलेगी। यानी सभी को फ्री बिजली नहीं मिलेगी।

केजरीवाल ने बताया कि उन्हें कई लोग मिलते हैं, जो कहते हैं कि हमें बिजली सब्सिडी नहीं चाहिए। आप इस पैसे का इस्तेमाल स्कूल खोलने, अस्पताल बनाने में करें। इसी के बाद दिल्ली सरकार ने ये फैसला लिया है। अब हम लोगों से पूछेंगे कि क्या उन्हें बिजली की सब्सिडी चाहिए? अगर वे कहेंगे कि चाहिए तो हम देंगे और वे कहेंगे कि नहीं चाहिए तो हम नहीं देंगे।



दिल्ली कैबिनेट ने स्टार्टअप पॉलिसी पास की
केजरीवाल ने बताया कि दिल्ली कैबिनेट ने स्टार्टअप पॉलिसी पास की है। जो युवा अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं, दिल्ली सरकार उनकी मदद करेगी। पैसे की मदद के साथ-साथ अन्य तरह की भी मदद दिल्ली सरकार करेगी। दिल्ली सरकार ढेर सारी वित्तीय सहायता देगी।

यह भी पढ़ें  दिल्ली सरकार ने 15 साल पुराने वाहनों के लिए जारी किया नया प्लान, नहीं बनेंगे वाहन अब कबाड़



उन्होंने कहा, ‘दिल्ली सरकार के किसी भी कॉलेज में पढ़ने वाला छात्र अगर स्टार्टअप शुरू करना चाहता है और पढ़ते-पढ़ते उसने कोई प्रोडक्ट बनाया है तो दिल्ली सरकार उसे पढ़ाई के लिए 2 साल तक की छुट्टी देने के लिए भी तैयार है, ताकि वह छात्र अपना पूरा समय अपने प्रोडक्ट पर लगा सके।’

केजरीवाल लेकर आए मोदी मॉडल
दिल्ली सरकार का यह फैसला केंद्र सरकार के मॉडल से मेल खाता है। PM नरेंद्र मोदी ने 2015 में एक इंटरनेशनल एनर्जी समिट में सब्सिडी छोड़ो अभियान की शुरुआत की थी। समिट में पीएम ने कहा था कि जो लोग सक्षम हैं और जिन्हें बिजली पर सब्सिडी लेने की जरूरत नहीं है उन्हें सब्सिडी नहीं लेनी चाहिए। PM की इस अपील के बाद कई लोगों ने खुद बिजली पर सब्सिडी लेने से मना कर दिया था।