दिल्ली में डबल डेकर फ्लाइओवर की तैयारी, ऊपर मेट्रो, बीच में चलेंगी गाड़ियां, जानिए क्या है खासियत

``` ```

दिल्ली के लोगों को जल्द ही डबल डेकर फ्लाइओवर का गिफ्ट मिलने जा रहा है। दिल्ली मेट्रो के पिंक लाइन (Delhi Metro Pink Line) पर मजलिस पार्क-मौजपुर कॉरिडोर के बीच इस डबल डेकर पुल का निर्माण किया जा रहा है। इस फ्लाईओवर के निर्माण में डीएमआरसी के साथ ही लोक निर्माण विभाग भी शामिल हैं। भजनपुरा और यमुना विहार मेट्रो स्टेशन के बीच बन रहे इस डबल डेकर फ्लाइओवर की लंबाई 1.4 किलोमीटर होगी। डबल डेकर फ्लाईओवर के खंभे तैयार हो चुके हैं। अब इनपर गर्डर रखने का काम चल रहा है। आइए जानतें हैं शहर के पहले डबल डेकर फ्लाईओवर की खासियतों के बारे में…

जमीन से 18 मीटर ऊपर चलेगी मेट्रो

नए डबल डेकर फ्लाईओवर की खासियत यह है कि इस पर मेट्रो जमीन से 18.5 मीटर ऊपर चलेगी। मेट्रो वायडक्ट की चौड़ाई को 10.5 मीटर रखा गया है। वहीं, फ्लाइओवर का लोअर डक्ट जमीन से 9.5 मीटर ऊपर होगा। फ्लाईओवर पर कार व अन्य गाड़िया चलेंगी। फ्लाइओवर का इंटीग्रेटेड स्ट्रक्चर सड़क के बीचोबीच बन रहा है। पिलर पर गर्डर रखने का काम शुरू हो चुका है। इन गर्डर्स को गढ़ी मांडू यार्ड से लाया जा रहा है। डीएमआरसी यह सुनिश्चित कर रहा है कि इसके कंस्ट्रक्शन के समय वजीराबाद रोड पर ट्रैफिक प्रभावित ना हो।

यह भी पढ़ें  दिल्ली-मुरादाबाद हाईवे पर (कावड़ यात्रियों)के लिए हुआ रुट मे बदलाव भारी वाहनों का आवागमन हुआ बंद

यू गर्डर का यूज, तुरंत बिछाया जा सकेगा ट्रैक

दो डेक के लिए, स्ट्रक्चर के होरिजोंटल सपोर्ट के लिए अलग-अलग तरह के गर्डरों का यूज किया जा रहा है। मेट्रो डेक के लिए, प्रीकास्ट, प्री-टेंशन यू-गर्डर का यूज किया जा रहा है क्योंकि उन पर ट्रैक बिछाने का काम तुरंत किया जा सकता है। फ्लाईओवर के लिए, टी-गर्डर का यूज किया जा रहा है। यह वर्टिकल बीम हैं जो फ्लैंग्स का सपोर्ट करते हैं। गढ़ी मांडू के यार्ड में टी-गर्डर और यू-गर्डर की ढलाई चल रही है। प्रीकास्ट गर्डर्स को डायरेक्ट कंस्ट्रक्शन साइट पर लाया जाएगा। इसके बाद लॉन्चर के जरिये जोड़ा जाएगा।

पिंक लाइन कॉरिडोर का एक्सटेंशन

यह 12.5 किमी लंबे पिंक लाइन कॉरिडोर (मजलिस पार्क-शिव विहार) का एक्सटेंशन है। इसका निर्माण दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) की तरफ से फेज IV प्रोजेक्ट के हिस्से के रूप में किया जा रहा है। यह फेज- IV के तीन प्राथमिकता वाले प्रस्तावित कॉरिडोर में सबसे छोटा है। यह चालू होने वाला पहला कॉरिडोर होगा, जिसका पहला सेक्शन अगले साल तक खुलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें  दिल्ली से लेह तक शुरू हुई बस सेवा, किराया मात्र ₹17.. रुपए

इस सेक्शन पर होंगे 8 मेट्रो स्टेशन

इस सेक्शन में यमुना विहार और भजनपुरा के अलावा खजूरी खास, सोनिया विहार, सूरघाट, जगतपुर गांव, झड़ोदा माजरा और बुराड़ी सहित आठ एलिवेटेड स्टेशन शामिल हैं। डीएमआरसी 20 किमी लंबे एरोसिटी-तुगलकाबाद कॉरिडोर के हिस्से के रूप में दक्षिण दिल्ली में महरौली बदरपुर रोड पर दूसरा डबल डेकर वायडक्ट भी बना रही है।