दिल्ली के आई आई टी से महरोली तक अब नहीं लगेगा जाम,
जानिए कैसे

``` ```

कारिडोर बनाने के लिए अरबिंदो मार्ग पर जमीन कम पड़ रही है। लोक निर्माण विभाग ने इसके लिए डीडीए से जमीन के लिए मदद मांगी है।

लोक निर्माण विभाग ने इस योजना को यूटिपेक (यूनीफाइड ट्रैफिक एंड ट्रांसपोर्टेशन इंफ्रास्ट्रक्चर (प्ला¨नग एंड इंजीनिय¨रग) सेंटर) के कोर ग्रुप में लगाया हुआ है।

जो लोग अरबिंदो मार्ग पर आइआइटी से महरौली तक जाम से जूझते हुए घर या दफ्तर पहुंचते हैं उनके लिए आने वाले सालों में उन्हें जाम से नहीं जूझना पड़ेगा।

लोक निर्माण विभाग इस योजना पर काम कर रहा है। इसके तहत पौने तीन किलोमीटर लंबा एक एलिवेटेड कारिडोर बनाया जाएगा। इसके अलावा दो अंडरपास बनेंगे।

क्या होगा एलिवेटेड कारिडोर बनने से फायदा

इनके बन जाने पर दक्षिणी दिल्ली में गुड़गांव या बदरपुर की ओर जाने वाले लोगों को आइआइटी फ्लाइओवर के पास से महरौली के ऐतिहासिक जैन मंदिर तक मार्ग सिग्नल फ्री हो जाएगा।

सड़क पर जगह की कमी के चलते इस मार्ग पर सिंगल पिलर पर कारिडोर बनेगा। इस तकनीक को मेट्रो रेल कारपोरेशन ने मेट्रो की अपनी लाइनें बिछाने के लिए कई स्थानों पर उपयोग किया है।

यह भी पढ़ें  8 साल में पेट्रोल 45% तो डीजल की कीमत 75% तक बढ़ी, केंद्र की कमाई में 4 गुना इजाफा

कम पड़ रही अरविंदो मार्ग पर जमीन

कारिडोर बनाने के लिए अरबिंदो मार्ग पर जमीन कम पड़ रही है। लोक निर्माण विभाग ने इसके लिए डीडीए से जमीन के लिए मदद मांगी है।

लोक निर्माण विभाग ने इस योजना को यूटिपेक (यूनीफाइड ट्रैफिक एंड ट्रांसपोर्टेशन इंफ्रास्ट्रक्चर (प्ला¨नग एंड इंजीनिय¨रग) सेंटर) के कोर ग्रुप में लगाया हुआ है।

यूटिपेक में इस विषय पर चर्चा के बाद मांगी गई अतिरिक्त जानकारी भी विभाग ने उपलब्ध कराई हुई है।

सरकार परियोजना को लेकर गंभीर

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के लोक निर्माण विभाग का चार्ज संभालने के बाद इस परियोजना को लेकर हलचल शुरू हुई है। सिसोदिया विभाग की जमीन पर नहीं उतर पाईं महत्वपूर्ण परियोजनाओं को लेकर गंभीर हैं

और लगातार इन मामलों की जानकारी ले रहे हैं और परियोजनाओं के बीच आ रहीं अड़चनों के समाधान पर चर्चा कर रहे हैं। उनके रुख से उम्मीद जताई जा रही है कि इन महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर भी काम आगे बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें  दिल्ली के इन इलाकों में बनेगा सरकारी गेस्ट हाउस सारी सुविधाओ से भरपूर, ऐसे उठा सके है यहां रहने का लुप्त

योजना के तहत अरबिंदो मार्ग पर आइआइटी के पास रिंग रोड फ्लाईओवर के नीचे अंडरपास बनेगा। फ्लाईओवर के नीचे लालबत्ती हटाने के लिए यह करीब 400 मीटर लंबा छह लेन का अंडरपास होगा।

इससे करीब 200 मीटर की दूरी पर मदर इंटरनेशनल स्कूल से कारडोर शुरू होगा। कारिडोर में तीन लेन आने और तीन लेन जाने के लिए निर्धारित होंगी।

महरौली जैन मंदिर के पास भी बनेगा अंडरपास

कारिडोर अरबिंदो आश्रम, सर्वोदय एंक्लेव, अधचिनी, पुलिस ट्रेनिंग स्कूल, लाडो सराय होते हुए महरौली के जैन मंदिर के पास तक जाएगा। महरौली जैन मंदिर लालबत्ती के पास भी एक अंडरपास बनेगा।

जिससे अंधेरिया मोड़ की ओर से आने वाले वाहन सीधे बदरपुर की ओर आ जा सकेंगे। इसके बन जाने से आइआइटी फ्लाइओवर से महरौली तक पहुंचने में 10 से 15 मिनट ही लगेंगे।

अभी कई बार लोगों को इस दूरी को पार करने में पौन घंटा तक लग जाता है।अभी इस दूरी में आठ लालबत्ती पड़ती हैं।सड़क पर चौड़ाई कम होने के कारण भी लोगों को परेशान होना पड़ता है।

यह भी पढ़ें  दिल्ली एनसीआर के लोगो को DMRC की नई सौगात, लाखो लोगो को मिलेगी ये सुविधा देखे