बस लेन को फ्री बनाने को चलेगा कैंपेन, 46 कॉर‍िडोर की पहचान, 474KM की दूरी होगी तय!

``` ```

द‍िल्ली (Delhi) में लेन ड्राइविंग न‍ियम (Lane Driving Rules) लागू होने के बाद अब उल्‍लंघन करने वालों के ख‍िलाफ कार्रवाई भी की जा रही है. द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) के ट्रांसपोर्ट ड‍िपार्टमेंट (Transport Department) की ओर से निर्धारित लेन में अपने वाहन पार्क नहीं करने पर 50 से अधिक वाहनों को जब्त क‍िया है. और उनके चालकों पर 500-500 रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है. इसके अलावा वाहन को उठाकर ले जाने व रखे जाने का पार्किंग चार्ज भी वाहन मालिक से वसूला जाएगा. आने वाले समय में ट्रांसपोर्ट ड‍िपार्टमेंट तीन फेज में च‍िन्‍ह‍ित 46 कॉर‍िडोर पर बस लेन को फ्री बनाने के ल‍िए कैंपेन चलाएगा ज‍िसमें 474 क‍िलोमीटर की दूरी तय की जाएगी.

इतना ही नहीं, ट्रांसपोर्ट ड‍िपार्टमेंट ने एक अप्रैल से शुरू किए गए लेन अनुशासन अभियान (Lane Discipline Drive) के तहत अब तक डीटीसी (DTC) और क्लस्टर बसों (Cluster Buses) पर भी खूब कार्रवाई की है. बताया जाता है क‍ि 97 ड्राइवरों पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है. अब तक बस लेन नियमों का उल्लंघन करने वालों पर 11 लाख रुपए से ज्‍यादा के जुर्माना लगाया जा चुका है. सड़क की सबसे बाईं ओर की लेन केवल बसों के चलने के लिए र‍िजर्व की गई है.

यह भी पढ़ें  पेट्रोल- डीजल पर बड़ी राहत! तेल कंपनियों ने जारी किए नए दाम, ₹84.10 में मिल रहा सबसे सस्ता पेट्रोल

विभाग के अध‍िकार‍ियों का कहना है कि र‍िजर्व बस लेन में अड़चन डालने या अत‍िक्रमण करने वाले छोटे वाहनों को हटाना शुरू कर दिया है जो वहां अनधिकृत रूप से खड़े पाए गए हैं.

कारों, ऑटो व दो पहिया वाहनों के बस लेन में बाधा डालने के बढ़ते मामलों को देखते हुए छोटे वाहनों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई भी शुरू कर दी गई गई है. बस लेन में अनधिकृत रूप से पार्क किए गए अब तक 40 से ज्‍यादा छोटे वाहनों को जब्त कर चालान किया गया गया है. वहीं, बस लेन मानदंड के उल्लंघन के लिए 60 से अधिक कारों, ऑटो, ई-रिक्शा और दोपहिया वाहनों का चालान किया गया है.

विभाग ने छोटे वाहनों को हटाने के लिए 14 क्रेनों (cranes) को सड़कों पर उतारा हुआ है. साथ ही करीब 35 से ज्‍यादा टीम इस मामले पर फोकस करने के ल‍िए लगाई गई हैं.

अभ‍ियान को सख्‍त बनाने के ल‍िए क्रेनों की संख्‍या बढ़ेगी
बताया जाता है क‍ि इस अभ‍ियान को सख्‍त और तेज बनाने के ल‍िए क्रेनों की संख्‍या बढ़ाई जाएगी और सिविल डिफेंस के लोगों को इस कैंपेन में शामिल क‍िया जाएगा. इससे स्टैंडों और प्रमुख सड़कों पर बस लेन को साफ करने में मदद मिल सके. दिल्ली ट्रेफि‍क पुल‍िस और अन्य स्‍टैकहोल्‍डर्स से परामर्श करने के बाद ट्रांसपोर्ट ड‍िपार्टमेंट ने कैंपेन को चलाने के ल‍िए 46 प्रमुख कॉर‍िडोर की पहचान की है. इस कैंपेन को तीन फेज में चलाया जाएगा ज‍िसके अंतर्गत कुल 474 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी.

बताते चलें क‍ि दिल्ली में एक अप्रैल से डीटीसी, क्लस्टर बसों और माल ढुलाई करने वाले वाहनों के लिए लेन ड्राइविंग का नियम लागू किया गया था. इसके तहत बसों और माल ढुलाई करने वाले वाहनों को एक तयशुदा लेन में ड्राइविंग करना होता है. 15 दिन के लिए इस श्रेणी के वाहनों पर यह नियम अनिवार्य क‍िया था. अब इस नियम को हर तरह के वाहनों पर लागू क‍िया जाएगा.

यह भी पढ़ें  दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने किया 7 नए Electric Vehicle चार्जिंग स्टेशनों का उद्घाटन, ये है खासियत

15 अप्रैल के बाद अब इस तरह से चलेगा ये अभियान
बताते चलें क‍ि सेकंड फेज में 16 से 30 अप्रैल तक, अंतरराज्यीय, कॉन्ट्रैक्ट और स्टेज कैरिज बसों के अलावा, भारी, मध्यम और चार पहिया हल्के माल वाहन भी परमिट वाले घंटों के दौरान बस लेन में चलेंगे.

निर्धारित कॉरिडोर में, जो जीरो टॉलरेंस जोन हैं, परिवहन विभाग की टीमें मेगाफोन के जरिए उचित घोषणाएं करेंगी ताकि वाहन चालकों को उनकी बसों को लेन में चलाने के लिए जागरूक बनाया जा सके. हर टीम के पास बस लेन में किसी भी लावारिस छोड़े गए वाहन को हटाने के लिए क्रेनें होंगी. इस दौरान अगर बसों के लिए तय लेन में कोई दूसरा वाहन खड़ा किया जाता है तो उसे क्रेन से खींचकर ले जाया जाएगा.

नियम उल्लंघन पर ये हैं दंड के प्रावधान

दिल्ली सरकार के मुताबिक, परिवहन विभाग एक प्रवर्तन अभियान चलाएगा और एक आदेश जारी किया गया था जिसमें कहा गया था कि लेन अनुशासन का उल्लंघन करने वाले बस चालकों को पहले अपराध के लिए 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा, खतरनाक ड्राइविंग के लिए कानूनी कार्रवाई की जाएगी और दूसरे अपराध के लिए जुर्माना लगाया जाएगा, और तीसरे अपराध के बाद उनका ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित कर दिया जाएगा. चौथे अपराध के बाद निजी बसों के परमिट रद्द कर दिए जाएंगे.

यह भी पढ़ें  यमुना मे बढ़े जलस्तर के करण बारापुला कारिडोर का रुके हुए काम की अक्टूबर मे दोबारा होगी शुरुवात,