दिल्ली-एनसीआर के लोगों को अब भारी पड़ेगी गलती, ये Certificate नहीं तो देना होगा 10,000 रुपये चालान

``` ```

दिल्ली परिवहन विभाग ने बगैर प्रदूषण नियंत्रण (पीयूसी) प्रमाणपत्र वाले वाहनों के खिलाफ कार्रवाई तेज करने के फिर निर्देश दिए हैं। विभाग ने साफ कहा है कि इस मामले में लापरवाही करने वालों को छूट नहीं मिलेगी और बगैर पीयूसी प्रमाणपत्र वाले वाहनों के खिलाफ कार्रवाई तेज होगी।

इसलिए ऐसे लोगों को सलाह है कि जिनके वाहनों के पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं हैं, वे बनवा लें अन्यथा 10 हजार का चालान भुगतने के लिए तैयार रहेंबता दें कि दिल्ली सरकार के निर्देश पर परिवहन विभाग ने बीते अक्तूबर महीने में प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों के खिलाफ विशेष अभियान शुरू किया था। जिसके बाद लोगों में कुछ जागरूकता दिखी थी और नवंबर महीने में सबसे अधिक 8,19,474 पीयूसी बने थे, जबिक इससे पहले अक्तूबर में 8,05, 249 पीयूसी जारी किए गए।

दिसंबर में 7,96,963, जनवरी में 5,11,884, फरवरी में 4,44,275 व मार्च में 486853 पीयूसीसी बने हैं। इसी तरह अप्रैल में 364805 और मई में 11 तारीख तक 117712 पीयूसीसी बने हैं। कार्रवाई में कार व मोटरसाइकिल वाले भी शामिल किए जाएंगे। पिछले तीन माह में कार्रवाई की बात करें तो बगैर पीयूसीसी वालों के मार्च में 2218, अप्रैल में 1016 और मई में अभी तक 205 चालान काटे गए हैें।

यह भी पढ़ें  दिल्ली की सड़कों का होगा सुधार सुन्दर दिल्ली का होगा अब निर्माण ये रूट होंगे शामिल।

इससे पहले बीते अक्तूबर में सबसे ज्यादा चालान और जुर्माना लगाया गया था, बीते अक्तूबर में सबसे ज्यादा 10,490 चालान काटे गए थे, नवंबर में 5,163, दिसंबर में 7,761, जनवरी में 3,039 व फरवरी में 2,451 चालान काटे गए थे।

विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि इस समय 360 पेट्रोल पंपों और 300 सर्विस स्टेशनों पर भी पीयूसीसी जारी किए जा रहे हैं। इसके अलावा डीटीसी के भी 39 कार्यालय हैं, जहां पर डीटीसी बसों के लिए पीयूसी प्रमाणपत्र जारी होता है, मगर लोग लापरवाही कर रहे हैं जो ठीक नहीं है।

यह अलग बात है कि दिल्ली परिवहन विभाग की ओर से उन्हें मैसेज भी भेजा जा रहा है कि अपना पीयूसी प्रमाणपत्र बनवा लें, उन्हें बताया जाता है कि किस दिन उनका पीयूसीसी समाप्त हो रहा है