दिल्ली-देहरादून इकोनॉमिक बनेगा कॉरिडोर बुटराडा और ख्यावड़ी समेत बनेंगे छह कट। देखे लिस्ट

``` ```

दिल्ली-देहरादून ग्रीन फील्ड इकोनॉमिक कॉरिडोर पर मवीकलां, अग्रवाल मंडी, टटीरी, लोहड्डा, खेड़ा मस्तान, बुटराडा, ख्यावडी में कट बनेंगे। छह लेन के इस एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए तीन कंपनी से अनुबंध किया गया है।जिले में चंडीगढ़ की शिवा बिल्ड इंडिया कंपनी निर्माण कराएगी। 2024 तक बनकर तैयार होने वाले इस इकोनॉमिक कॉरिडोर के लिए भूमि अधिग्रहण की जिला प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।

भारत माला परियोजना के तहत यह एक्सप्रेसवे दिल्ली के अक्षर धाम से शुरू होकर बागपत जिले के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे से होते हुआ मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर जिले के गणेश चौक बाईपास से होकर उत्तराखंड के देहरादून तक जाएगा। इसके निर्माण के लिए गाजियाबाद, मेरठ व चंडीगढ़ की कंपनियों से अनुबंध कर लिया है। जिले में एक्सप्रेसवे के लिए भूमि का मुआवजा वितरित करने का कार्य चल रहा है। एसडीएम सदर बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि दिल्ली-देहरादून इकोनॉमिक कॉरिडोर की जद में आ रहे 417 किसानों को 110 करोड़ रुपये का मुआवजा बांट दिया गया है।

यह भी पढ़ें  Delhi University ने स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए एक नई कंपनी खोलने की योजना बनाई,जाने क्या है

मंगलवार को बाबरी क्षेत्र के लाडो माजरी में भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। एनएचएआई के टीम लीडर एनसी मिश्रा ने बताया कि दिल्ली-देहरादून इकोनॉमिक कॉरिडोर के निर्माण के लिए अनुबंध के बाद एजेंसियो को प्लांट स्थापित करने और किसानों को मुआवजा वितरित करने के साथ-साथ भूमि पर कब्जा लेने के लिए सक्रिय कर दिया है।

अंबा विहार से लेकर शामली बाईपास तक सहारनपुर रोड होगा फोरलेन

शहर के एसटी तिराहे से लेकर मेपल्स स्कूल के पास मिलने वाले बाईपास तक सहारनपुर रोड दो किमी लंबाई तक दो लेन है। सहारनपुर रोड पर अंबा विहार के सामने मेरठ करनाल बाईपास मिलेगा। अंबा विहार से लेकर सहारनपुर रोड पर पर मिलने वाले शामली बाईपास तक सहारनपुर रोड चार लेन होगा। दिल्ली-सहारनपुर हाईवे और शामली बाईपास को जोड़ने व वाहनों को उतरने और चढ़ने के लिए क्रॉस जंक्शन होगा।

जिससे आसानी से वाहन बाईपास और दिल्ली-सहारनपुर हाईवे पर जा सकेंगे। हालांकि जिला प्रशासन एनएचएआई बागपत इकाई के परियोजना प्रबंधक संजय मिश्रा को दस से ज्यादा पत्र लिखकर पूछ चुका है कि मेरठ-करनाल हाईवे का टपराना से लेकर शामली बाईपास का अंतिम क्रॉस जंक्शन कहां होगा। किसानों के लगातार मुआवजा लेने के लिए पत्र आ रहे हैं। एनएचएआई मेरठ-करनाल हाईवे के बाईपास का अंतिम क्रॉस जंक्शन पर निर्णय नहीं ले पा रहा है।

यह भी पढ़ें  दिल्ली से राजस्थान पहुंचेंगे मात्र चंद मिनटों में, नया हाईवे हुआ त्यार