दिल्ली सरकार का नया प्लान, देगी लाखो लोगो को नौकरियां, देखे किस सेक्टर में कितनी जॉब

``` ```

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार मोची धोबी लोहार प्लंबर राजमिस्त्री इलेक्ट्रिशियन कुम्हार आदि सहित अन्य असंगठित क्षेत्रों से लोगों को ट्रेनिंग देने की तैयारी में जुट गई है।

दिल्ली में सत्तासीन आम आदमी पार्टी सरकार ने असंगठित क्षेत्र के कामगारों जैसे- मोची, धोबी, लोहार, प्लंबर, राजमिस्त्री, इलेक्ट्रिशियन, कुम्हार आदि सहित अन्य असंगठित क्षेत्रों से जुड़े लोगों को स्किल ट्रेनिंग देगी।

इसके तहत दिल्ली स्किल एंड एंटरप्रेन्योरशिप यूनिवर्सिटी (डीएसईयू) खास ट्रेनिंग प्रोग्राम की शुरुआत करेगी। इसका उद्देश्य असंगठित क्षेत्र से जुड़े लोगों के कौशल को बेहतर बनाना है,

ताकि अपस्किलिंग के साथ-साथ उनकी आय में वृद्धि हो तथा उन्हें टारगेट समूहों के साथ भी जोड़ा दिल्ली सरकार की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, रोजगारपरक

इस कार्यक्रम के तहत पहले विभिन्न स्त्रोतों, जैसे- निर्माण बोर्ड डाटाबेस, एसोसिएशन और जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय के माध्यम से इन कामगारों की पहचान की जाएगी और इन्हें डीएसईयू के माध्यम से सर्टिफिकेट ट्रेनिंग कोर्स करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें  दिल्ली मे आज से प्लास्टिक हुआ बैन, उपयोग करने पर लगेगा भरी मात्रा में जुरमाना |

कामगारों को उनके व्यवसाय से जुड़े टूल किट व वर्दी भी देगी सरकार
इसके साथ ही सभी कामगारों को उनके काम से संबंधित टूल किट व वर्दी भी दी जाएगी। साथ ही एक पोर्टल भी तैयार किया जाएगा जिस पर सभी कामगारों की जानकारी होगी और दिल्ली के नागरिक इस पोर्टल के जरिये कुशल कामगारों से उनकी सेवाएं ले पाएंगे।

डीएसईयू द्वारा तैयार खास प्रशिक्षण कार्यक्रम से मिलेगी स्किल ट्रेनिंग

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दरअसल सरकार के इस प्रयास से न केवल कामगार वर्ग अपने कौशल को बेहतर बना पाएंगे, बल्कि पोर्टल के माध्यम से उनकी आय का स्नोत भी बढ़ेगा।

सरकार का ये कदम इन असंगठित क्षेत्रों के कामगारों के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा।बता दें कि पिछले दिनों उपराज्यपाल वीके सक्सेना, मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री

मनीष सिसोदिया ने एक बैठक में इस खास ट्रेनिंग प्रोग्राम को शुरू करने से संबंधित निर्णय लिया था। इसके बाद दिल्ली सरकार अब इस पर अपना काम करने जा रही है। माना जा रहा है कि दिल्ली में रोजगार के लिए यह एक अच्छा कदम साबित होगा।

यह भी पढ़ें  दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर दोपहिया और तिपहिया वाहन चालाने पर लगेगा 5000 Rs का चालान