दिल्ली की इन सड़कों से हटेंगे खोमचे, पेड़ और खंबे… A, B और C k कैटिगरी की सड़कों की पूरी लिस्ट यहां देखें

``` ```

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बनी टास्क फोर्स ने 2017 में दिल्ली को जाम मुक्त करने के लिए 77 कॉरिडोर की पहचान की थी।

कुल 413 किलोमीटर तक इन सड़कों के फुटपाथ से अतिक्रमण, पेड़ और खंबे हटाने की प्लानिंग बनी थी। इसके तहत ट्रैफिक डायवर्जन का भी प्रस्ताव था। इस फेज में इन सड़कों के फुटपाथ से अतिक्रमण हटाने की मुहिम चलाई जा रही है।

नगर निगम और नई दिल्ली नगर पालिका के जरिए यह अभियान चलेगा, जिसमें दिल्ली पुलिस की तरफ से सुरक्षा दी जाएगी।

पुलिस अफसरों ने बताया कि एमसीडी और एनडीएमसी के साथ जल्द ही को-ऑर्डिनेट किया जाएगा। दोनों विभागों के अफसरों से इन 77 सड़कों को लेकर सिलसिलेवार अभियान चलाने का प्लान बनाने को कहा जाएगा। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का पालन करने के तहत उपराज्यपाल की तरफ से अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जाना है।

इन कॉरिडोर को तीन कैटिगरी में बांटा गया है। इसके तहत ईस्टर्न रेंज में कुल 40 कॉरिडोर, सेंट्रल रेंज में 13, नॉर्दर्न रेंज में 20, नई दिल्ली रेंज में 12, सदर्न रेंज में 11 और वेस्टर्न रेंज 17 कॉरिडोर हैं।

पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने सभी जिलों के डीसीपी और ट्रैफिक पुलिस को अतिक्रमण हटाने के निर्देश मंगलवार को दिए हैं। नगर निगम और एनडीएमसी से को-ऑर्डिनेट करने को कहा गया है। इसके लिए बाकायदा मंगलवार ऑर्डर भी जारी कर दिया है।

पुलिस अफसरों से फुटपाथ पर अतिक्रमण के समय की और फिर हटाने के बाद की दोनों फोटो भेजने को कहा गया है। इससे पता लग सकेगा कि कितना अतिक्रमण हटाया गया है और इसकी जानकारी उपराज्यपाल के साथ होने वाली मीटिंग में दी जा सके।

यह भी पढ़ें  #दिल्ली मे स्वतंत्रता दिवस के मोके पर सामान्य यातायात के लिए मार्ग रहेंगे बंद, रूट देख कर घर से निकले

पुलिस अफसरों ने बताया कि टेंपरेरी और परमानेंट दोनों तरह के अतिक्रमण हटाने के संसाधन सिविक एजेंसियों के पास हैं। टेंपरेरी अतिक्रमण हटाने में कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन कई जगह फुटपाथ पर धार्मिक स्थल और पक्के निर्माण हैं। इसके लिए बुलडोजर की भी जरूरत पड़ेगी। इसलिए अतिक्रमण हटाने का पूरा प्लान नगर निगम और एनडीएमसी को ही बनाना है और अपना प्रोग्राम पुलिस को सौंपना है। इसके आधार पर ही पुलिस फोर्स को तैयार किया जाएगा। ट्रैफिक पुलिस भी अपनी तैयारी रखेगी।

77 कॉरिडोर को तीन कैटिगरी में बांटा गया है
ए-कैटिगरी – 29 रोड की पहचान हुई। इन कॉरिडोर पर रोजाना 50 हजार से ज्यादा गाड़ियां चलती हैं।
बी-कैटिगरी – 30 रोड हैं, जिनमें 30 हजार से ज्यादा गाड़ियां रोज गुजरती हैं।
सी-कैटिगरी – 18 रोड हैं, जिनमें रोजाना 20 हजार से ज्यादा गाड़ियां दौड़ती हैं।
40 ऐसे पॉइंट्स की पहचान टास्क फोर्स ने की थी, जहां से अतिक्रमण हटाने से सड़क चौड़ी हो जाएगी
ये है रोड लिस्ट
ए-कैटिगरी (करीब 197 किमी)
1. अरबिंदो मार्ग (10.9 किमी)
2. मथुरा रोड ( नीला गुंबद से बदरपुर फ्लाईओवर 11 किमी)
3. सावित्री फ्लाईओवर (1 किमी)
4. महरौली बदरपुर रोड (11.2 किमी)
5. इग्नू रोड (2.5 किमी)
6. कालिंदी कुंज रोड (4.5 किमी)
7. महरौली गुड़गांव रोड (7.1 किमी)
8. शांति पथ-आरटीआर मार्ग (3.5 किमी)
9. धौलाकुआं ( 3.8 किमी)
10. सरदार पटेल मार्ग (4 किमी)
11 कमाल अतातुर्क मार्ग (1 किमी)
12. डीबीजी रोड (3 किमी)
13. न्यू रोहतक रोड (2.5 किमी)
14. पटेल रोड (5.6 किमी)
15. नजफगढ़ रोड (19 किमी)
16. रोहतक रोड (18 किमी

यह भी पढ़ें  आसान नहीं है कपल के लिए दिल्ली-एनसीआर में रहना, जानिए दिल्ली, गुड़गांव, नोएडा और गाजियाबाद में रहने के लिए कितनी चाहिए सैलरी

. पंखा रोड (5.5 किमी)
18. आउटर रिंग रोड हनुमान सेतु से चंदगीराम अखाड़ा 3 किमी)
19. रोड नंबर 43 (5 किमी)
20. रिंग रोड (विजय नगर से बुराड़ी 4 किमी)
21. आउटर रिंग रोड ( भलस्वा से ट्रांसपोर्ट नगर 2.5 किमी)
22. जीटी करनाल रोड (पल्ला से सिंघु चौक 6.4 किमी)
23. शहीद जगत नारायण मार्ग (3.2 किमी)
24. एमसी डाबर मार्ग (8.5 किमी)
25. महाराज अग्रसेन मार्ग, शालीमार बाग (2 किमी)
26. विकास मार्ग (आईटीओ से कड़कड़ी मोड़ 7 किमी)
27. जीटी रोड (कश्मीरी गेट से अप्सरा बॉर्डर 16 किमी)
28. 66 फुटा रोड एक्सटेंशन (सीलमपुर से गोकुलपुरी 3.7 किमी)
29. पुश्ता रोड, खजूरी (20 किमी)
बी-कैटिगरी (करीब 129 किमी)
1. आसफ अली रोड (1.5 किमी)
2. पूसा रोड (2.3 किमी)
3. श्यामा प्रसाद मुखर्जी मार्ग (3.3 किमी)

5. रोड नंबर 56 (अप्सरा बॉर्डर से नोएडा 9.1 किमी)
6. रोड नंबर 57 (टेल्को पॉइंट से बिहारी कॉलोनी 6 किमी)
7 ओल्ड पटपड़गंज रोड (7 किमी)
8. वजीराबाद रोड (8 किमी)
9. अकबर रोड (2.1 किमी)
10. अशोका रोड (1.5 किमी)
11 सुब्रमण्यम भारती मार्ग (2 किमी)
12. रिंग रोड (प्रेमबाड़ी पुल से 2 किमी)
13. गुलाब सिंह रोड (2 किमी)
14. रिंग रोड (जीटीबी नबर मेट्रो स्टेशन से 5.7 किमी)
15 बुराड़ी रोड (3 किमी)
16. बख्तावरपुर रोड (3.5 किमी)
17 स्वामी संपूर्णानंद मार्ग (2.5 किमी)
18. बादली-बवाना रोड (16 किमी)
19 कंझावला-बवाना रोड (5.8 किमी)
20. आउटर रिंग रोड (मंगोलपुरी फ्लाईओवर से 3 किमी)
21. आउटर रिंग रोड (मुकरबा चौक से 3.8 किमी)
22. भगवान महावीर मार्ग (5 किमी)
23. नेल्सन मंडेला मार्ग (1 किमी)
24. रिंग रोड (धौलाकुआं से हयात 2.5 किमी)

यह भी पढ़ें  दिल्ली की जनता के लिए MCD ने प्रॉपर्टी टैक्स की दरों मे की बढ़ोतरी जाने कितना फीसदी हुआ इजाफा

25. रविदास मार्ग (4 किमी)
26. शहीद बिजेंदर सिंह मार्ग (3 किमी)
27. ओल्ड गुड़गांव रोड (3 किमी)
28. द्वारका-डाबड़ी ड्रेन रोड (3.1 किमी)
29. जीएल गोस्वामी मार्ग (4.5 किमी)
30. नांगलोई मार्ग (9.2 किमी)
सी-कैटिगरी (करीब 87 किमी)
1. नेताजी सुभाष मार्ग (1.3 किमी)
2. जेएलएन मार्ग (2.1 किमी)
3. रोड नंबर 40 (आजाद मार्केट चौक से 4.8 किमी )
4. लोनी रोड (5.5 किमी)
5. बाबरपुर रोड (5.8 किमी)
6. रोड नंबर 201 द्वारका (11 किमी)
7. रोड नंबर 224 द्वारका (6 किमी)
8. रोड नंबर 316 मंगोलपुरी (1.3 किमी)
9. कंझावला रोड (3 किमी)
10 गुरु गोलवरकर मार्ग (1.2 किमी)
11. आउटर रिंग रोड (आईआईटी फ्लाईओवर से 2.5 किमी )
12. महरौली-महीपालपुर रोड (7.1 किमी)
13. कैप्टन गौड़ मार्ग (3 किमी)

14. सीवी रमन मार्ग (2 किमी)
15. बिजवासन-नजफगढ़ मार्ग (16 किमी)
16. नजफगढ़-पीटीसी झड़ौदा कला (4 किमी)
17. क्लब रोड पंजाबी बाग (3 किमी)
18. सतगुरु राम सिंह मार्ग (6.9 किमी)