दिल्ली में शराबियो की हुई बल्ले बल्ले, फिर से शराब पर भारी छूट

``` ```

दिल्ली में एक बार फिर से शराब की बिक्री में कुछ बड़ा फेरबदल संभव है। सूत्रों ने इस बात के संकेत दिए हैं कि दिल्ली में फिर से शराब की सरकारी दुकानें खुल सकती हैं।

इसके लिए उन चारों कॉरपोरेशन से बात करके इस मामले को अमलीजामा पहनाने की कोशिश की जा रही है। लेकिन नई आबकारी नीति के तहत डीएसआईआईडीसी, डीटीटीडीसी,

डीसीसीडब्लूएस और डीएससीएससी को फिर से शराब की दुकान खोलने की अनुमति किस नियम के तहत दी जाएगी, फिलहाल यह मामला साफ नहीं है।

सूत्रों का तो यह भी कहना है कि दो बड़े मामलों को लेकर दिल्ली एक्साइज विभाग में शुक्रवार देर रात तक कमिश्नर समेत अन्य आला अधिकारियों की मीटिंग चलती रहीं।

इसमें एक तो चार कॉरपोरेशन की शराब की दुकानें फिर से कैसे खोली जा सकती है, इस पर विचार विमर्श किया गया। दूसरे, नई एक्साइज पॉलिसी के तहत दिल्ली में चल रही 400

से अधिक शराब की दुकानों के लाइसेंस का क्या किया जाए। मौजूदा लाइसेंस 31 जुलाई को खत्म हो जाएगा। अगर लाइसेंस की समयसीमा नहीं बढ़ी तो दिल्ली में 1 अगस्त से

यह भी पढ़ें  दिल्‍ली-चंडीगढ़ नेशनल हाईवे पर रफ्तार से चलने पर घर पहुंच रहा चालान, जानें कहां-कहां लगे कैमरे

शराब की दुकानें नहीं खुल सकेंगी। इससे दिल्ली वालों को किसी भी तरह की शराब और बीयर खरीदने को नहीं मिलेगी।

लाइसेंस बढ़ेगा या नहीं? इस बात को जानने के लिए प्राइवेट शराब की दुकान वालों ने एक्साइज विभाग के अधिकारियों से संपर्क भी करना चाहा। लेकिन कंपनियों का कहना है कि इस

मामले में एक्साइज विभाग की ओर से उनसे कोई बात नहीं की गई। ऐसे में अब हम क्या करें। हमें यह पता ही नहीं कि उनकी दुकानें 1 अगस्त से आगे खुल भी पाएंगी या नहीं।

अगर लाइसेंस बढ़ भी गया तो करीब 100 दुकानें बंद होने की कगार पर हैं। भारी घाटा होने की वजह से दिल्ली में शराब की करीब 100 दुकानें और बंद हो जाएंगी।

और अगर लाइसेंस की सीमा नहीं बढ़ाई गई तो 1 अगस्त से दिल्ली में तमाम प्राइवेट शराब की दुकानें बंद हो जाएंगी।इसके लिए शुक्रवार से शराब की कई दुकानों पर ग्राहकों को भारी

यह भी पढ़ें  दिल्ली में आज कांग्रेस के प्रदर्शन से कई जगह यातायात रहेगा प्रभावित, ट्रैफिक पुलिस की एडवायजरी,

डिस्काउंट देकर शराब की दुकानों से शराब के स्टॉक को खत्म करना शुरू भी कर दिया गया है। इसके पीछे की वजह दुकानदार यह बताते हैं कि अगर 31 जुलाई से आगे लाइसेंस

नहीं बढ़ाया गया तो उनके स्टॉक का क्या होगा। एक्साइज विभाग से पैसे निकालना बड़ा मुश्किल होगा। दिल्ली में उन तमाम दुकानों पर स्टॉक खत्म करने के लिए एक बोतल के

साथ एक या दो फ्री दिए जाने के भारी डिस्काउंट दिए जाने शुरू कर दिए गए हैं।

चार कॉरपोरेशन की सरकारी दुकानों को फिर से खोलने के बारे में शुक्रवार रात को विभाग में मीटिंग का दौर जारी रहा। नई आबकारी नीति के तहत डीएसआईआईडीसी,

डीटीटीडीसी, डीसीसीडब्लूएस और डीएससीएससी को फिर से शराब की दुकान खोलने की अनुमति किस नियम के तहत दी जाएगी, यह मामला साफ नहीं है। सूत्रों का कहना है कि

दिल्ली में सरकारी शराब की दुकानें खोले जाने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें  क्या सच में 1 जून से होगी शराब सस्ती, को लेकर आया अरविंद केजरीवाल का नया बयान