दिल्ली में शराब पीने वालो को फिर सरकार की सौगात, इस इस जगह खुलेंगे 500 ठेके।

``` ```

Delhi Liquor Policy: राजधानी दिल्ली में पुरानी शराब नीति के तहत शराब की दुकानें खुलने जा रही हैं. 31 अगस्त के बाद राजधानी में एक भी निजी दुकान दिल्ली में नहीं

खुलेगी. इसे देखते हुए सरकार ने पुरानी शराब नीति के तहत शराब की दुकान खोलने की कवायद तेज कर दी है. गुरुवार को सरकार की तरफ से गठित कमेटी ने इसे लेकर रिपोर्ट

सरकार को सौंपी है. इस रिपोर्ट में 1 सितंबर तक 500 सरकारी दुकानें खोलने का फैसला किया गया है.

सरकार के चार निगम मिलकर करेंगे काम

ये काम सरकार के चारों निगम मिलकर करेंगे. शराब की दुकानें खोलने का फैसला शराब की किल्लत और कानून व्यवस्था को देखते हुए लिया गया है.

दिल्ली पर्यटन और परिवहन विकास निगम (DTTDC), दिल्ली राज्य औद्योगिक बुनियादी ढांचा विकास निगम (DSIIDC), दिल्ली उपभोक्ता सहकारी थोक स्टोर

(DCCWS) और दिल्ली राज्य नागरिक आपूर्ति निगम (DSCSC) इस महीने के अंत तक इन दुकानों को स्थापित कर देंगे.

यह भी पढ़ें  दिल्ली मेट्रो पहुंचाएगी ऑफिस और घर, मात्र 5-10₹ लगेगा किराया, देखे रूट

31 दिसंबर तक 200 और दुकानें खोली जाएंगी

कमेटी की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 31 दिसंबर तक शराब की 200 और दुकानें खोली जाएंगी. यानी शराब की कुल 700 दुकानें इस साल खोली जानी हैं.

इन दुकानों में सभी निगम महंगी और ब्रांड वाली शराब को बेचने के लिए 5 प्रीमियम दुकानें भी शुरू करेंगे. इनमें से 2 दुकानें इसी महीने शुरू होंगी. बाकी बची दुकानें 31 दिसंबर तक खोली जाएंगी

इन जोन में दुकान चलाएंगे चारों निगम

DTTDC अपनी दुकानों को जोन 1-9, DSIIDC 10-18, DCCWS 19-24 और DSCSC 25-30 में दुकानें चलाएगा. इसके साथ ही एयरपोर्ट पर भी DTTDC ही शराब की दुकानों

को खोलेगा. वहीं, दिल्ली छावनी और नई दिल्ली नगर परिषद के तहत इलाकों में DSIIDC दुकानों को संभालेगा.

ऐसे खोली जाएंगी शराब की दुकानें

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि DTTDC और DSIIDC इस महीने के अंत तक शराब की 150-150 दुकानें खोलेंगे, जबकि इस दौरान DCCWS और DSCSC 100-100 दुकानें

यह भी पढ़ें  दिल्ली की DTC बसों पर होगा Pvt कंपनियों का कब्जा, इन इन रूट का सफर होगा महंगा

खोलेंगे. दिसंबर तक DTTDC और DSIIDC शराब की 60-60 दुकानें खोलेंगे, वहीं, DCCWS और DSCSC 40-40 दुकानें खोलेंगे. बता दें

कि दिल्ली सरकार ने 17 नवंबर, 2021 को आबकारी नीति 2021-22 लागू करने के बाद शराब का खुदरा कारोबार छोड़ दिया था.