दिल्ली वाहन मालिकों को ने पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं बनवाया तो मोबाइल पर पहुंचेगा 10 हजार का ई-चालान

``` ```

Delhi News इसमें से 2000 वाहन मालिकों को वैध पीयूसीसी प्राप्त करने के लिए ई-नोटिस भेजकर कहा है कि यदि वे इसे समय पर नहीं प्राप्त करते हैं

तो उन्हें 10 हजार रूपये जुर्माने का सामना करना पड़ेगा।दिल्ली में वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली सरकार ने बिना वैध प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र

(पीयूसीसी) वाले वाहन मालिकों को ई-नोटिस भेजना शुरू कर दिया है और उनसे वैध प्रमाणपत्र प्राप्त करने अथवा जुर्माना भरने के लिए तैयार रहने को कहा है।

परिवहन विभाग के अधिकारियों ने बताया है कि नोटिस भेजने के बाद भी अगर वाहन मालिक ने एक सप्ताह में पीयूसी प्रमाणपत्र नहीं बनवाया तो

उनके मोबाइल पर 10 हजार रुपये का ई-चालान भेज दिया जाएगा और वर्चुअल तौर पर इसकी जानकारी अदालत को दी जाएगी।परिवहन विभाग के मुताबिक मौजूदा समय में दिल्ली

में 13 लाख दोपहिया और तीन लाख कारों सहित कुल 17 लाख से अधिक वाहन बिना वैध पीयूसी प्रमाणपत्र के सड़कों पर चल रहे हैं। इसमें से 2000 वाहन मालिकों को वैध

यह भी पढ़ें  दिल्ली परिवहन में निकली बंफर भर्ती, NO INTERVIEW, मैरिट से होगा चयन, 46000 सैलरी, जाने process और करे आवेदन।

पीयूसीसी प्राप्त करने के लिए ई-नोटिस भेजकर कहा है कि यदि वे इसे समय पर नहीं प्राप्त करते हैं, तो उन्हें 10 हजार रूपये जुर्माने का सामना करना पड़ेगा।

पिछले हफ्ते से ई-नोटिस भेजने की प्रक्रिया शुरू की गई है। दो-तीन महीनों के भीतर प्रदूषण बढने का समय आ रहा है, ऐसे में हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हम कुछ हद तक

वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करें। वैध पीयूसी प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए लोगों को चेतावनी देना उस दिशा में उठाया गया एक कदम है।

अधिकारियों के मुताबिक वैध पीयूसी प्रमाणपत्र के बिना पकड़े जाने पर वाहन मालिकों को मोटर वाहन अधिनियम के तहत छह महीने तक की कैद या 10,000 रुपये तक का जुर्माना अथवा दोनों का सामना करना पड़ सकता है।