अगर आपने भी गाड़ी में modify करवाए है ये पार्ट तो चालान भरने के लिए हो जाए तैयार

``` ```

फैंसी सायरन और प्रेशर हॉर्न अगर किसी गाड़ी में लगा होता है तो पुलिस फौरन उसे रोककर चालान काट देती है।

क्योंकि ये भी अवैध संशोधन की लिस्ट में आता है। इस तरह और भी कई पार्ट्स हैं नहीं मॉडिफाई कराने बचना चाहिए।

नई दिल्ली, आपने अक्सर लोगों को गाड़ी मॉडिफाई कराते हुए देखा होगा। क्या आपको पता है आप अपने गाड़ी के कुछ ही पार्ट्स को संशोधित (मॉडिफाई) करवा सकते हैं?

लोग आम तौर पर अपनी कारों को भीड़ से अलग करना पसंद करते हैं। ताकि उनकी गाड़ी को अलग अटेंशन मिल सके। लेकिन कई बार इसके चक्कर में उन्हें भारी भरकम चालान का

सामना करना पड़ता है।आफ्टर-मार्केट अलॉय व्हील्स या लेदर सीट कवर्स जैसे छोटे मॉडिफिकेशन नियमों को नहीं तोड़ते हैं,

लेकिन वहीं गाड़ी के कई पार्ट्स ऐसे भी होते हैं, जिसको बदलवाना अवैध है। आइये जानते हैं उन पार्ट्स के बारे में

कलरफुल ग्लास . गाड़ी पर कलरफुल ग्लास लगवाना यातायात नियमों का उल्लंघन करना है। ट्रैफिक पुलिस इस अपराध को आसानी से पकड़ लेती है और लोगों से जुर्माना वसूलती है।

यह भी पढ़ें  गैस सिलेंडर की कीमत हुई आधी, LPG सिलिंडर ने तोड़ रिकॉर्ड,हुआ सस्ता,करोड़ों लोगों को मिलेगी राहत

कानून के अनुसार, आपकी कार में पीछे की खिड़की के लिए कम से कम 75% दृश्यता होनी चाहिए, और साइड की खिड़कियों के लिए यह 50% है।

फैंसी हार्न कई बार आपने ट्रक या कारों में फैंस हार्न बजते हुए सुना होगा। इस तरह के फैंसी सायरन और प्रेशर हॉर्न अगर किसी

गाड़ी में लगा होता है तो पुलिस फौरन उसे रोककर चालान काट देती है। क्योंकि ये भी अवैध संशोधन की लिस्ट में आता है।

गाड़ी का साइलेंसर

कई युवाओं को अपनी गाड़ी को अलग शो-ऑफ करने का शौक रहता है। वह अपनी गाड़ियों में बाजार में मिल रही फैंसी साइलेंसर को लगवा लेते हैं।

उनको लगता है कि उनके गाड़ी से निकलने वाली आवाज उनकी गाड़ी को दूसरों से अलग करती है।

हालांकि, सच्चाई ये कि ऐसा करने पर सीधे चालान कटता है। जिससे सिवाय पछतावा और कुछ हासिल नहीं होने वाला है।