दिल्ली सरकार महिलाओं को देगी रोजगार, स्पेशल दी जायेगी ट्रेनिंग, लिस्ट देखे, जाने पूरा प्लान।

``` ```

दिल्ली सरकार (Delhi Government) के महिला एवं बाल विकास विभाग ने दिल्ली में महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली स्किल एंड एंटरप्रेन्योरशिप यूनिवर्सिटी (डीएसईयू) के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) साइन किया है. ये ज्ञापन दिल्ली के महिला एवं बाल विकास मंत्री कैलाश गहलोत (Kailash Gehlot), डब्ल्यूसीडी निदेशक और डीएसईयू रजिस्ट्रार की उपस्थिति में साइन किया गया.


क्या है मकसद

डब्ल्यूसीडी की ओर से इसके अंतर्गत “समृद्धि परियोजना” योजना शुरू किए जाने की बात कही गयी है, जिसका उद्देश्य दिल्ली में मौजूदा और नई महिला उद्यमियों को महिला एवं बाल विकास विभाग के सहेली समन्वय केंद्र (एसएसके) आंगनवाड़ी हब के मंच का उपयोग करके अपना काम शुरू करने के लिए प्रशिक्षित करना है.

क्या हैं इसकी मुख्य विशेषताएं


1. महिला उद्यमियों के लिए प्रशिक्षण सह व्यवसाय इन्क्यूबेशन केंद्र के रूप में 120 आंगनवाड़ी हब केंद्र का उपयोग किया जाएगा.


2. महिला माइक्रो उद्यमिता कार्यक्रम के लिए दिल्ली में आंगनवाड़ी हब केंद्र विकसित किए जायंगे.


3. कार्यक्रम के तहत 100 महिला माइक्रो उद्यमशीलता उद्यमों का सपोर्ट किया जाएगा.


4. आर्थिक रूप से सशक्त करने के लिए 2500 से ज्यादा महिलाओं की आंगनबाड़ियों में कैपेसिटी बिल्डिंग की जायेगी.

यह भी पढ़ें  दिल्ली वालों को महंगाई की एक और मार, पाइप के जरिये सप्लाई होने वाली PNG गैस के बढ़े दाम

किन चीजों की ट्रेनिंग दी जाएगी

इसके साथ ही इस समझौता ज्ञापन के तहत आंगनवाड़ी हब के सहेली समन्वय केंद्र मंच का उपयोग करके महिला उद्यमियों को ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी, जिसमें कौशल प्रशिक्षण प्रदान करना, बाजार से जुड़ाव स्थापित करना, विभिन्न सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ उठाना, प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के लिए उन्हें सशक्त बनाना, संसाधनों तक पहुंच के माध्यम से महिलाओं के नेतृत्व वाले स्टार्ट-अप को बढ़ावा देना आदि शामिल है. इस साझेदारी से दिल्ली में महिला उद्यमियों के लिए स्टार्ट-अप के एक मजबूत पारिस्थितिक तंत्र के निर्माण का मार्ग प्रशस्त होने की उम्मीद है.


मंत्री ने क्या कहा


इस मौके पर महिला एवं बाल विकास मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा “आज हम न केवल महिलाओं को अवसर प्रदान करके उन्हें सशक्त बनाने के लिए, बल्कि उन्हें खुद को और आने वाली पीढ़ियों को सशक्त बनाने के लिए शिक्षित करने के लिए एक महत्वपूर्ण पहल की शुरुआत कर रहे हैं. दिल्ली सरकार रोजगार सृजन पर विशेष ध्यान दे रही है. इस साल के हमारे रोजगार बजट में भी इसपर विशेष जोर दिया गया है. इस समझौता ज्ञापन के जरिए हम न केवल महिला उद्यमियों को बढ़ावा देने और उन्हें आगे लाने के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बना रहे हैं बल्कि उन्हें अपने इनोवेटिव आजीविका विचारों के साथ आगे बढ़ने के लिए एक मंच भी प्रदान कर रहे हैं

यह भी पढ़ें  दिल्ली में इस पिलर के 2 कोरिडोर पर बनेंगे 16 स्टेशन, जाने रूट लिस्ट