दिल्ली नगर निगम ने लैंडफिल साइट को खत्म करने के कार्य को गति देने के लिए जारी किया एकीकृत टेंडर

``` ```

Delhi Landfill Site निगम को उम्मीद है कि टेंडर की प्रक्रिया एक माह में पूरी हो जाएगी। इसके बाद कार्यादेश दे दिए जाएंगे।

निगम ने इसके लिए छह तिमाही यानी मार्च 2024 की समय सीमा भी निर्धारित की है।लैंडफिल साइट को खत्म करने के कार्य को गति देने के लिए दिल्ली नगर निगम एकीकृत टेंडर

करने जा रहा है। इसमें प्रत्येक लैंडफिल से 30-30 लाख टन कूड़े को निस्तारित कर यहां से हटाया जाएगा। निगम ने इसके लिए निविदा आमंत्रित की है।

निविदा में निगम ने उस एजेंसी को आमंत्रित किया है जो 30 लाख टन प्रत्येक लैंडफिल से कूड़े को निस्तारित कर दे और निस्तारण के लिए निकले इनर्ट (निष्क्रिय कूड़ा) को हटा दे।

एकीकृत टेंडर जारी करेगा दिल्ली नगर निगम

निगम अधिकारी ने बताया कि तीनों लैंडफिल से कूड़ा हटाने का लक्ष्य हैं। ऐसे में इसको तेजी से करने के लिए एकीकृत टेंडर करने का निर्णय लिया गया है।

यह भी पढ़ें  दिल्ली में गर्मियों में यहां मौज-मस्ती करने का बनाएं प्लान, इतना सस्ता प्लान मात्र 350₹ देखे लिस्ट

एक ही लैंडफिल पर एक से अधिक ठेकेदार ट्रामल मशीनों से कूड़ा निस्तारण कर रहे थे। इसलिए कूड़ा निस्तारण के बाद इनर्ट निकल रहा था।

उसके लिए भी निस्तारण की व्यवस्था निगम को करनी पड़ रही थी।इसमें निगरानी और अलग-अलग लोगों से संपर्क करने में दिक्कत होती थी,

जबकि एकीकृत टेंडर में एक ही व्यक्ति को ट्रामल मशीन लगानी होगी। कूड़ा निस्तारण के बाद जो इनर्ट निकलेगा,

उसका भी काम लेने वाली कंपनी को निस्तारण करना होगा। निगम के अनुसार फिलहाल वर्षा के कारण लैंडफिल पर कूड़ा निस्तारण का कार्य बंद पड़ा है।

गाजीपुर लैंडफिल साइट 10 ट्रामल मशीनें यहां कूड़े के निस्तारण के लिए लगा रखी हैं 4000 टन प्रतिदिन पुराने कूड़े का किया जाता है निस्तारण 15 मीटर तक लैंडफिल की ऊंचाई को कर दिया गया है

कम 11.40 लाख टन कूड़े का किया जा चुका है निस्तारण 3.50 लाख टन निष्क्रिय अपशिष्ट को विभिन्न स्थानों पर या

यह भी पढ़ें  दिल्ली से हरियाणा के कई शहरों का सफर हो सकता है महंगा, सामने आ रही ये बड़ी वजह

सड़कों व हाइवे की भराई के लिए भेजा है 16 एकड़ क्षेत्र से हटाया जा चुका है निष्क्रिय अपशिष्ट को

भलस्वा लैंडफिल साइट

44 ट्रामल मशीनें यहां कर रही हैं कार्य 10 हजार टन कूड़े का प्रतिदिन होता है ट्रामल मशीनों से निस्तारण 25.50 लाख टन कूड़े का किया जा चुका है

निस्तारण 11 मीटर तक लैंडफिल की ऊंचाई को किया जा चुका है कम 700 टन निष्क्रिय अपशिष्ट को एनटीपीसी के ईको पार्क में डाला था

और सड़कों व हाइवे की भराई के लिए भेजा है 20 एकड़ क्षेत्र से हटाया जा चुका है निष्क्रिय अपशिष्ट को

ओखला लैंडफिल साइट

26 ट्रामल मशीनें कर रही हैं कूड़े का निस्तारण 7000 टन कूड़े का प्रतिदिन कूड़े का ट्रामल मशीनों से किया जाता है निस्तारण 22 मीटर तक लैंडफिल की ऊंचाई को किया जा चुका है

कम 18.10 लाख टन कूड़े का किया जा चुका है निस्तारण 5 लाख टन निष्क्रिय अपशिष्ट को एनटीपीसी के ईको पार्क व सड़कों व हाईवे की भराई के लिए भेजा है

यह भी पढ़ें  दिल्ली में DTC बस की बड़ी सुविधाए, 5-10 मिनट बाद हर इस रूट पर मिलेगी बस, देखे रूट लिस्ट

20 एकड़ क्षेत्र से हटाया जा चुका है निष्क्रिय अपशिष्ट कोनिगम के अनुसार तीनों लैंडफिल से अब तक 55 लाख टन कूड़ा हटाया जा चुका है।

इस एकीकृत टेंडर से हमें इसकी गति बढ़ने की उम्मीद है। केंद्र सरकार ने निगम को लैंडफिल के निस्तारण के लिए 776 करोड़ रुपये भी बीते माह में जारी किए थे।