दिल्ली वालों को गुड़गांव पहुंचने में अब लगेंगे चंद मिनट, नए प्रोजेक्ट 10 लेन के शानदार हाईवे निर्माण से

``` ```

धौला कुआं से गुड़गांव तक बिना रुके सफर का नया सुपर प्रोजेक्ट तैयार किया जा रहा है। इस प्रेजेक्ट के पूरा होने पर दिल्ली वालों को गुड़गांव पहुंचने में चंद मिनट लगेंगे।

केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने एनबीटी के साथ खास इंटरव्यू में कहा कि वे एक ऐसी योजना पर काम कर रहे हैं,

जिसके बन जाने के बाद धौला कुआं से दिल्ली के ट्रैफिक को गुड़गांव पार होने में कहीं भी रुकने की जरूरत नहीं होगी।गडकरी ने बताया कि इस नए प्रोजेक्ट के तहत धौला कुआं से

गुड़गांव तक ऊपर-ऊपर 10 लेन का हाईवे बनाया जाएगा। योजना के तहत मौजूदा फ्लाईओवरों को एलिवेटेड रोड के जरिए ऊपर ही ऊपर जोड़ दिया जाएगा।

इसके बाद कहीं भी रुके बिना लोग अपनी गाड़ी में धौलाकुआं से सीधे गुड़गांव पार कर जाएंगे। देश की आजादी के अमृत महोत्सव पर एनबीटी की खास सीरीज के तहत नितिन

गडकरी ने इंटरव्यू दिया है। इस दौरान उन्होंने कई रोचक किस्से बताए। उन्होंने बताया कि 1970 से दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, राजस्थान राज्यों के बीच पानी को

यह भी पढ़ें  दिल्ली की सड़कों को सुंदरसुरक्षित व वर्ल्ड-क्लास बनाने के विज़न के तहत दिल्ली सरकार सुदृढ़ीकरण को लेकर मिशन मोड शुरू

लेकर विवाद चला आ रहा था। जब वे जल मंत्री थे तो उन्होंने इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को बुलाकर मीटिंग रूम का दरवाजा बंद कर दिया था।

सबको कह दिया था कि जब तक इस मसले को हल नहीं करेंगे, तब तक बाहर नहीं जाएंगे। यह मसला हल हो गया। उन्होंने दिल्ली के लिए 2070 तक पानी का इंतजाम कर दिया।

पानी से हाइड्रोजन बनाकर गाड़ियां, ट्रेन, हवाई जहाज चलें
केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी दावा करते हैं कि जो काम 75 सालों में नहीं हुए, उन्होंने उसे 8 साल में कर दिखाया है।

आने वाले 25 सालों में उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है कि देश में पानी से हाइड्रोजन निकालकर उससे गाड़ियां, ट्रेनें, हवाई जहाज चलाए जाएं।

साथ ही इसी हाइड्रोजन से फार्मो, केमिकल, स्टील सहित सभी इंडस्ट्रीज चलें। इससे प्रदूषण भी नहीं होगा और देश को एक नया ईंधन मिलेगा। यह बात उन्होंने नवभारत टाइम्स में खास बातचीत में कहीं।

यह भी पढ़ें  दिल्ली वालों का सफर होगा और भी शानदार और मज़ेदार, JBM और TATA की इलेक्ट्रिक बसों के साथ। किराया बिल्कुल कम।