दिल्ली में 55 जगहों पर ट्रैफिक से जूझते हैं लोग, जानें सबसे ज्यादा 15 जाम के प्वाइंट

``` ```

यातायात पुलिस लगातार सभी रेंज में सर्वे कराकर यह पता लगाती रहती है कि किन इलाकों में ट्रैफिक का दबाव है और इसके कारण क्या हैं?

इस क्रम में पुलिस ने 55 जगहों की पहचान की है,राजधानी दिल्ली में 55 जगहों पर सबसे ज्यादा जाम लगता है। कुछ पर तो तमाम कोशिशों के बाद भी

जाम से निजात नहीं मिल पा रही है। कहीं ट्रैफिक का अत्यधिक दबाव है, तो कहीं सड़कों पर बॉटल नेक बनना और रोड इंजीनियरिंग से जुड़े अन्य दूसरे कारण भी शामिल हैं।

जहां ट्रैफिक का सबसे ज्यादा दबाव रहता है? इन प्वाइंट का जिक्र दिल्ली पुलिस ने अपनी वेबसाइट में भी की है।ट्रैफिक पुलिस के मुताबिक,

उत्तरी दिल्ली में सबसे ज्यादा 15 ऐसी जगहों की पहचान की गई है। दक्षिणी रेंज 14 प्वाइंट के साथ दूसरे नंबर पर है। वहीं, पश्चिमी रेंज में सबसे कम जाम के प्वाइंट हैं,

लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि इसके बाद भी इन इलाकों में जानलेवा हादसे होते हैं। इसके पीछे का कारण खुले गांव और गाड़ियों की स्पीड को माना जाता है।

हादसे के बारे में यह भी ट्रेंड सामने आया है कि दिल्ली में ज्यादातर ऐसे गंभीर हादसे शाम के समय होते हैं। वहीं, कुल हादसों की संख्या के आधार पर किए गए विश्लेषण में

यह भी पढ़ें  दिल्ली के स्कूलों से DTC ने हटाई बस सेवा, बच्चे हुए निराश, ये थी वजह

845 हादसे रात में और 720 दिन के समय हुए हैं। सबसे ज्यादा हादसे शाम 7 बजे से रात 4 बजे के बीच हुए हैं, जिसके लिए सबसे ज्यादा जिम्मेदार मालवाहक गाड़ियां हैं।

किस रेंज में कितने प्वाइंट
उत्तरी रेंज में : 15
दक्षिणी रेंज: 14
पूर्वी रेंज में : 10
सेंट्रल रेंज में : 09
नई दिल्ली रेंज में : 05
पश्चिमी रेंज में : 02

प्रमुख कारण
1. राजधानी में वाहनों की संख्या मुंबई, कोलकता और चेन्नई में कुल गाड़ियों से ज्यादा है।
2. सड़क बनाने के दौरान रोड इंजीनियरिंग पर ध्यान नहीं देना। कई जगहों पर खंबे और ट्रांसफार्मर भी परेशान करते हैं।
3. लेन में वाहन नहीं चलाने व सड़क पर गलत जगह पर वाहन पार्क करने से जाम की समस्या खड़ी होती है।

क्या कर रही ट्रैफिक पुलिस
1. रोड इंजीनियरिंग में सुधार और विभिन्न मार्गों पर खंभों और ट्रांसफार्मर हटाने के लिए विभागों को लिखा पत्र।
2. लेन ड्राइविंग और गलत पार्किंग करने को लेकर लोगों में जागरूकता ला रही है। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी कर रही है।
3. सभी चौराहों और मुख्य सड़कों को कैमरों से लैस कर रही है, ताकि लोग गलती करने से परहेज करें।

यह भी पढ़ें  दिल्ली वालों के लिए जानलेवा साबित हो रहीं क्लस्टर बसें, साल दर साल बढ़ रही हादसों की संख्या

ट्रैफिक दबाव के मामले में दिल्ली दुनिया में चौथे स्थान पर
दिल्ली दुनिया का चौथा सबसे ज्यादा ट्रैफिक दबाव झेलने वाला शहर है। लोकेशन टेक्नोलॉजी कंपनी टॉमटॉम के ट्रैफिक इंडेक्स 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक,

इस सूची में मुंबई का पहला स्थान है। जीपीएस आधारित इस अध्ययन में आठ लाख से ज्यादा आबादी वाले 56 देशों के 400 शहरों को शामिल किया गया था। टॉमटॉम कंपनी एपल और उबर के लिए नक्शे भी तैयार करती है।

शीर्ष पांच शहर
देश शहर जाम से कितना ज्यादा समय लगता है
भारत मुंबई 65 फीसदी
कोलंबिया बोगोटा 63 फीसदी
पेरू लीमा 58 फीसदी
भारत दिल्ली 58 फीसदी
रूस मॉस्को 56 फीसदी