दिल्ली में आज से शराब के निजी ठेके रहेंगे बंद अब ऐप पर मिलेगी ठेके की जानकारी, जाने कैसे

``` ```

दिल्ली (Delhi) में शराब की निजी दुकानों की जगह अब दिल्ली सरकार (Delhi Government) के 300 से ज्यादा बिक्री केंद्र लेंगे.

मतलब साफ है कि गुरुवार से दिल्ली में शराब के निजी ठेके अब बंद रहेंगे. राजधानी दिल्ली में गुरुवार 1 सितंबर से शराब के निजी ठेके बंद रहेंगे,

क्योंकि दिल्ली में पिछले साल लागू की गई नई शराब नीति (New Liquor Policy) का आज 31 अगस्त को आखिरी दिन है.

इसके लिए अब स्टॉक खत्म करने के लिए दिल्ली में निजी शराब की दुकानों पर एक बोतल के साथ एक बोतल फ्री मिल रही है.

राजधानी में शराब की निजी दुकानों की जगह अब दिल्ली सरकार (Delhi Government) के 300 से अधिक विक्रय केंद्र लेंगे. अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि आबकारी

नीति 2021-22 की जगह अब पुरानी व्यवस्था बहाल हो रही है और यह बदलाव गुरुवार से प्रभाव में आएगा.दिल्ली में करीब 250 निजी शराब विक्रेताओं के ठेके अभी संचालित हो

यह भी पढ़ें  दिल्ली से देहरादून पहुंचना हुआ आसान,सुरंग मे बने एक्सप्रेसवे के निर्माण से सिर्फ 2 घंटो की होगी दुरी

रहे हैं जिन्हें अब वापस ली जा चुकी आबकारी नीति 2021-22 के तहत लाइसेंस दिए गए थे. आबकारी अधिकारियों ने कहा कि अधिक ठेकों के खुलने से सितंबर के

पहले हफ्ते से शराब की आपूर्ति में सुधार आएगा. दिल्ली के एक वरिष्ठ आबकारी अधिकारी ने कहा, ‘‘अभी करीब 250 निजी ठेके हैं जिनका स्थान 300 से अधिक सरकारी विक्रय

केंद्र लेंगे. आने वाले दिनों में ठेकों की संख्या बढ़ेगी क्योंकि दिल्ली सरकार की 500 ऐसी दुकान खोलने की योजना है.’’

अब ऐप पर मिलेगी ठेके की जानकारी

आबकारी विभाग का एक मोबाइल ऐप भी सितंबर से शुरू हो जाएगा जिसमें उपभोक्ताओं को उनके आसपास ठेकों की जगह और उनके खुलने एवं बंद होने के समय की जानकारी दी

जाएगी. बता दें कि दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति में शराब घर तक पहुंचाने की पॉलिसी थी. हालांकि उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना द्वारा नई आबकारी नीति की CBI से

जांच की सिफारिश के बीच ही दिल्ली सरकार ने नई आबकारी नीति को वापस लेने का फैसला किया.

यह भी पढ़ें  दिल्ली देश के सबसे बड़े शॉपिंग फेस्टिवल की तैयारी में, खरीदारी पर मिलेगी भारी छूट, पढ़िए हर जानकारी

दिल्ली सरकार ने नवंबर 2021 में नई शराब नीति लागू की थी जिसका विपक्षी पार्टी बीजेपी और कांग्रेस ने जमकर विरोध किया था.