दिल्ली एनसीआर व गाजियाबाद में शुरू होगी ROPE -WAY यात्रा, जाम मुक्त होंगे ये शहर।

``` ```

सड़क और एक्सप्रेसवे के साथ अब नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) शहरों के अंदर भी जाम मुक्त यातायात सेवा मुहैया कराने का काम करेगी। एनएचएआई की सहयोगी कंपनी नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड (एनएचएलएमटी) दिल्ली-एनसीआर में रोपवे बनाने का काम करेगी।

गाजियाबाद में मोहननगर से वैशाली तक रोपवे बनाने की दिशा में कार्य शुरू हो गया है। सड़क एवं परिवहन राजमार्ग मंत्रालय की ओर से ओडी (ओरिजिन एंड डेस्टिनेशन) सर्वे को मंजूरी दी गई है। इसमें देखा जाएगा कि संबंधित रूट पर कितने यात्री मिलेंगे। मोहनगर से वैशाली तक 5.17 किलोमीटर के रोपवे को पहले स्थानीय प्राधिकरण (गाजियाबाद विकास प्राधिकरण) द्वारा बनाया जाना था। इसे लेकर बीते दो वर्षों से वार्ता चल रही है। कई बार निजी कंपनियों की तरफ से प्रजेंटेशन दिया जा चुका है, लेकिन लागत अधिक होने से प्राधिकरण की तरफ से प्रोजेक्ट को आगे नहीं बढ़ाया गया। स्थानीय सांसद और केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राजमार्ग राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह की पहल पर अब एनएचएआई और एनएचएलएमटी द्वारा प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें  केंद्र सरकार ने रोजगार के अवसर को बढ़ाते हुए इलेक्ट्रिक वाहनों की नई नीति की घोषित

अभी यह तय नहीं हुआ है कि गाजियाबाद में बनने वाले इस प्रोजेक्ट की लागत कौन उठाएगा।

● ओडी सर्वे में देखा जाएगा कि मोहन नगर से वैशाली के बीच यात्रा करने वाले कितने यात्री मिलेंगे और उनसे प्रतिदिन कितनी आमदनी होगी।

प्रोजेक्ट की लागत निकलने में कितना वक्त लगेगा। सब सामान्य रहा तो फिर एनएचएआई प्रोजेक्ट डिटेल रिपोर्ट तैयार करेगा।

● अगले एक महीने में सर्वे का काम पूरा हो जाएगा। उसके बाद डीपीआर की संस्तुति की जाएगी

एनएचएआई नेशनल हाईवे-8 पर दिल्ली एयरपोर्ट से गुरुग्राम के बीच रोपवे बनाने की दिशा में काम कर रही है।

कम दूरी में बेहद उपयोगी


एनएचएआई अधिकारियों के अनुसार, इस प्रोजेक्ट की लागत मेट्रो और रैपिड ट्रेन से काफी कम है। साथ ही इसे ज्यादा जगह की आवश्यकता नहीं होती है। यह कम दूरी में बेहद उपयोगी है। इसलिए अब एनएचएआई नेशनल हाईवे लॉजिस्टिक मैनेजमेंट लिमिटेड के साथ मिलकर रोपवे प्रोजेक्ट पर काम कर रही है।

शहर में लाने की तैयारी

यह भी पढ़ें  दिल्ली सरकार के नए ट्रैफिक नियमों के अनुसार आपकी एक गलती पड़ सकती है भारी, भुगतना पड़ सकता है इतना चालान


अब इस तरह के प्रोजेक्ट को भीड़ वाले शहरी क्षेत्र में लाने की तैयारी है। बताया जा रहा है कि शहरी क्षेत्र के रोपवे में पहाड़ों की तुलना में कुछ परिवर्तन हो सकते हैं, क्योंकि इसमें रुकने के स्थानों की संख्या एक से अधिक हो सकती है।

रोपवे क्या है


रोपवे यानी एक ऐसा रास्ता जो केबल या रस्सी के सहारे बनाया जाता है, जिसके सहारे एक ट्रॉली चलती है। इसी ट्रॉली में बैठकर बिना कहीं रुके यात्री एक जगह से दूसरी जगह आसानी से पहुंच जाते हैं। सामान्य तौर पर रोपवे का इस्तेमाल पहाड़ी इलाकों में होता है, इससे आना-जाना आसान हो जाता है।