दिल्ली मे 1 सितम्बर से शराब की बिक्री होगी बिलकुल बंद,जाने सरकार का शराब पर नया अपडेट

``` ```

Delhi Liquor Close News: नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद यानी NDMC ने अपने अधिकार क्षेत्र में पांच सरकारी

शराब की दुकानें खोलने के केजरीवाल सरकार के प्रस्ताव को बुधवार को ठुकरा दिया है.

Delhi Liquor News: लुटियंस दिल्ली में एक सितंबर से शराब की दुकानों के संचालन की संभावना नहीं है. नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद यानी NDMC ने अपने अधिकार क्षेत्र में

पांच सरकारी शराब की दुकानें खोलने के केजरीवाल सरकार के प्रस्ताव को बुधवार को ठुकरा दिया है.नवंबर 2021 में नई आबकारी नीति लागू किए जाने के बाद

दिल्ली में शराब की कोई सरकारी दुकान नहीं बची थी. वहीं, इस नीति को रद्द करने के सरकार के फैसले पर अमल से शहर में निजी शराब की दुकानें 31 अगस्त तक बंद हो जाएंगी और

सिर्फ सरकारी शराब की दुकानें ही संचालित होंगी.हालांकि, दिल्ली राज्य औद्योगिक और बुनियादी ढांचा विकास निगम और दिल्ली पर्यटन एवं परिवहन विकास निगम के एनडीएमसी

क्षेत्रों में चार स्थानों पर शराब की दुकानें खोलने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया है.एक सितंबर से शहर में केवल राज्य के स्वामित्व वाली चार एजेंसियों – डीएसआईआईडीसी,

यह भी पढ़ें  दिल्ली से पटना जाने वाले यात्रियों को इंडियन रेलवे ने दीअपग्रेडेड एक्सप्रेस, 12 घंटो का सफर होगा अब 4 घंटो मे

डीटीटीडीसी, डीसीसीडब्ल्यूएस और डीएससीएससी को खुदरा शराब व्यवसाय संचालित करने की अनुमति होगी. ये एजेंसियां शराब की 500 दुकानें खोलेंगी और इस साल के अंत

तक यह संख्या 700 हो जाएगी.नयी दिल्ली महानगर परिषद के सदस्य और भारतीय जनता पार्टी के नेता कुलजीत सिंह चहल ने कहा कि डीएसआईआईडीसी और डीटीटीडीसी ने

नगर निकाय के अधिकार क्षेत्र में पांच शराब की दुकानें खोलने की अनुमति मांगी है.चहल ने कहा कि उनके प्रस्ताव के मुताबिक पालिका पार्किंग, यशवंत प्लेस, जनपथ में एक-एक

दुकान और पालिका बाजार में दो दुकान खोली जानी थी. चर्चा के बाद हमने अपने अधिकार क्षेत्र में शराब की दुकानें खोलने की अनुमति देने से इनकार कर दियाउन्होंने कहा कि

राष्ट्रीय राजधानी में आबकारी नीति को लेकर अस्पष्टता के कारण अनुमति देने से इनकार कर दिया गया. निकाय पदाधिकारियों ने कहा कि इस बात की सबसे अधिक संभावना

है कि एक सितंबर से NDMC क्षेत्र में शराब की दुकानें नहीं होंगी.उन्होंने संकेत दिया कि चार सरकारी एजेंसियां बाद में एक और प्रस्ताव लेकर आ सकती हैं

यह भी पढ़ें  दिल्ली बनेगी कनेक्‍टिविटी राजधानीयों में से एक, हाईवे नेटवर्क के चलते निर्माण से