DMRC एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन की बढ़ेगी स्पीड, 120 किमी प्रति घंटे की गति से फर्राटा भरेंगी मेट्रो

``` ```

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (DMRC) एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन (Airport Express Line) पर मेट्रो की स्पीड बढ़ाने पर विचार कर रहा है.

इसके लिए प्रक्रिया शुरू भी हो गई है. उम्मीद है कि एक साल के भीतर में इस कॉरिडोर पर औसतन 120 किमी प्रति घंटे की गति से मेट्रो फर्राटा भरने लगेगी.

ऐसा होने के बाद नई दिल्ली रेलवे स्टेशन (New Delhi Railway Station) से इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (Indira Gandhi International Airport) के

टर्मिनल 3 मेट्रो स्टेशन पर यात्री सिर्फ 15 मिनट में पहुंच सकेंगे. फिलहाल ये दूरी तय करने में 19 मिनट का समय लगता है.

नई दिल्ली से द्वारका सेक्टर 21 के बीच एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन की लंबाई 22.7 किमी है. एयपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर नई दिल्ली, शिवाजी स्टेडियम, धौला कुआं, एरोसिटी एयरपोर्ट

टर्मिनल 3 और द्वारका सेक्टर 21 जैसे 6 मेट्रो स्टेशन हैं. कॉरिडोर की स्वीकृत स्पीज 90 किमी प्रति घंटे है. वहीं मौजूद समय में ये औसतन 80 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से मेट्रो चलती है.

यह भी पढ़ें  द‍िल्‍ली के द्वारका के (DDA) बाद नरेला होगा अब सब-स‍िटी बनाने को तैयार ये होंगी खासियत

नई दिल्ली से एयरपोर्ट टर्मिनल-1 के बीच का सफर में कितना लगता है टाइम
नई दिल्ली से एयरपोर्ट टर्मिनल-3 के बीच 19.4 किमी का सफर मेट्रो से तय करने में करीब 19 मिनट लगते हैं. डीएमआरसी के मुताबिक इस कॉरिडोर का निर्माण हाई स्पीड

मेट्रो के परिचालन के लिए किया गया है. इसलिए एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन पर स्वीकृत स्पीड 135 प्रति घंटे हो सकती है. तब औसतन 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से मेट्रो चल सकेगी.

चरणबद्ध तरीके से बढ़ाई जाएगी मेट्रो की स्पीड
DMRC ने ये भी कहा कि कॉरिडोर पर मेट्रो की स्पीड फेज वाइज बढ़ाई जाएगी. इसके लिए सबसे पहले ट्रैक के टेंशन क्लैंप में बदलाव कर इसे हाई फ्रीक्वेंसी का टेंशन क्लैंप बनाया

जाएगा. इसके बाद मेट्रो की स्पीड की निगरानी के लिए भी ट्रैक पर कई उपकरण लगाए जाएगें. ऐसा होने के बाद शुरू में मेट्रो की स्पीड 100 किमी प्रति घंटे की रखी जाएगी.

यह भी पढ़ें  दिल्ली में एक बार फिर से मॉल में खुली शराब की सरकारी दुकानें, मिलेंगे 500 से ज्यादा ब्रांड जानिए लोकेशन

एक महीने की निगरानी के बाद स्पीड 110 किमी की जाएगी और उसके अगले महीने के बाद 110 किमी हो जाएगी. छह महीने तक ये प्रोसेस ट्रायल पर रहेगा.

डीएमआरसी के मुताबिक ट्रायल और मेट्रो रेल संरक्षा आयुक्त से स्वीकृति के बाद यात्री 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली मेट्रो में सफर का लुत्फ उठा सकेंगे.