दोपहिया-तिपहिया गाड़ियों को है अब मोटे चालान कटने का खतरा, जाने कैसे

``` ```

अब 1,000 रुपये फाइन को बढ़ाकर 20,000 रुपये किया जाएगा. एक बार एनएचएआई से इसकी मंजूरी मिल जाए, उसके बाद 20,000 रुपये का चालान कटना शुरू हो जाएगा.

अगस्त के दूसरे हफ्ते से यह चालान शुरू हो सकता है.दिल्ली से मेरठ की यात्रा कर रहे हैं, खासकर दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे से यह खबर आपके लिए है.

इस एक्सप्रेसवे के लिए एक नया नियम जारी हुआ है जो जुर्माने को लेकर है. चूंकि सभी एक्सप्रेसवे पर बाइक, स्कूटी, साइकिल, ठेला और बैलगाड़ी की मनाही होती है,

इसलिए दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे ने भी इसे लागू कर दिया है. यह एक्सप्रेसवे साल भर पहले ही बनकर तैयार हुआ है. अब कोई व्यक्ति इस सड़क पर प्रतिबंधित गाड़ियां जैसे कि बाइक

या स्कूटी से चलता पकड़ा जाएगा, तो उसके खिलाफ 20,000 रुपये का चालान कटेगा. हालांकि अभी तक चालान की राशि 1,000 रुपये है. लेकिन नेशनल हाइवे अथॉरिटी

ऑफ इंडिया (NHAI) इसे 20 गुना बढ़ाकर 20,000 रुपये करने की तैयारी में है.ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि एनएचएआई को प्रतिबंधित गाड़ियों को रोकने में दिक्कतें पेश

यह भी पढ़ें  दिल्ली-जयपुर रेलवे ट्रैक पर 160KM प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेंगी ट्रेन,अब 2 घंटो का होगा सफर, देखे रूट

आ रही हैं. लोग बाइक-स्कूटी लेकर इस एक्सप्रेसवे पर सफर करते हैं. यहां तक कि ई-रिक्शा की सवारी भी देखी जा रही है. नोएडा सेक्टर-62 के पास नियमों की अवहेलना को आसानी से देखा जा सकता है.

इससे किसी बड़े खतरे की आशंका हमेशा बनी रहती है. इसलिए, एनएचएआई के पास जुर्माने की राशि बढ़ाने के सिवा दूसरा कोई विकल्प नहीं बचता

दोपहिया-तिपहिया गाड़ियों का खतरा
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर दोपहिया के अलावा ऑटो रिक्शा और ट्रैक्टर-ट्राला चलाने की भी इजाजत नहीं है. ऐसा इसलिए है क्योंकि दोपहिया या अन्य तिपहिया वाहनों की स्पीड

एक्सप्रेसवे पर भागने वाली गाड़ियों से कम होती हैं. एक्सप्रेसवे पर 80-90 किमी प्रति किमी की स्पीड होती है जिससे कि दोपहिया गाड़ियों के कारों से टकराने का खतरा पैदा होता है.

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे की दूरी 60 किमी है जिसे एक घंटे से भी कम समय में पूरा कर लिया जाता है. पहले इसी दूरी के लिए कई घंटे लग जाते थे.

यह भी पढ़ें  दिल्ली से वाराणसी तक रफ्तार भरेगी ये बुलेट ट्रैन, चंद मिनटों में सफर होगा तय, इन 13 अंडरग्राउंड स्टेशन पर रुकेगी, जाने स्टेशन लिस्ट।

यह सड़क दिल्ली के सराय काले खां को मेरठ से जोड़ती है जिसका अधिकांश हिस्सा गाजियाबाद में 42 किलोमीटर तक पड़ता है. यह सड़क दिल्ली एनसीआर को यूपी के कुछ बड़े शहरों से जोड़ती है

कैसे होगी कार्रवाई
एक्सप्रेसवे पर बाइक-स्कूटी या ऑटो चलाने वालों पर कार्रवाई करने के लिए हाईटेक कैमरे लगाए जाएंगे. कैमरे अब भी लगे हैं, लेकिन उनका काम ओवरस्पीडिंग की निगरानी करना है.

इसके बारे में ट्रैफिक एसपी रामानंद कुशवाहा कहते हैं कि एनएचएआई से बात चल रही है ताकि एक्सप्रेसवे पर पहले से लगे कैमरों की क्वालिटी बढ़ाई जाए. क्वालिटी बढ़ने से कैमरे

बाइक, ऑटो, ट्रैक्टर आदि के फुटेज ले सकेंगे जिनपर कार्रवाई की जाएगी. कुशवाहा कहते हैं कि अब 1,000 रुपये फाइन को बढ़ाकर 20,000 रुपये किया जाएगा.

एक बार एनएचएआई से इसकी मंजूरी मिल जाए, उसके बाद 20,000 रुपये का चालान कटना शुरू हो जाएगा. अगस्त के दूसरे हफ्ते से यह चालान शुरू हो सकता है. एनएचआई को एक्सप्रेसवे पर साइनबोर्ड लगाने के लिए कह दिया गया है.

यह भी पढ़ें  दिल्ली रेलवे स्टेशन पर रेल कोच रेस्तरां में मुफ्त उठा सकेंगे खाने का आनंद, नही लगेगा कोई टिकट।