रेलवे मिशन रफ्तार के तहत ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की योजना पर शुरू हुआ काम दिल्ली- मुंबई तक का सफर होगा आसान

``` ```

Mumbai-Delhi Route Trains: रेलवे द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए तमाम नई पहल की जा रही हैं. इसी कड़ी में पश्चिम रेलवे मुंबई-दिल्ली के बीच चलने वाली ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की योजना बना रहा है.

ऐसा होने पर मुंबई से दिल्ली के बीच चलने वाली ट्रेनों का समय 12 घंटे हो जाएगा. वर्तमान में इस सफर में यात्रियों को 16 घंटे तक का समय लगता है.

गौरतलब है कि पश्चिमी रेलवे ने ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने की इस योजना को ‘मिशन रफ्तार’ नाम दिया है और प्रोजेक्ट के लिए 1 हजार 281 करोड़ रुपये के टेंडर को मंजूरी भी दे दी है.

मिशन रफ्तार में क्या होगा?

मिशन रफ्तार के अंतर्गत मुंबई और दिल्ली के बीच चलने वाली ट्रेनों की स्पीड को 160 किमी प्रति घंटा किया जाएगा.

मुंबई-दिल्ली कॉरिडोर पर ट्रेनों की स्पीड को बढ़ाने के लिए इंफ्रॉस्ट्रक्चर को मजबूती दी जाएगी.

मिशन रफ्तार को पूरा करने की डेडलाइन मार्च 2024 रखी गई है.

यह भी पढ़ें  दिल्ली एनसीआर के लोगो को DMRC की नई सौगात, लाखो लोगो को मिलेगी ये सुविधा देखे

मुंबई से दिल्ली 1 हजार 384 किलोमीटर लंबा रूट 16 की बजाय 12 घंटे में हो जाएगा पूरा

कैसे बढ़ाई जाएगी मिशन रफ्तार के तहत ट्रेनों की स्पीड


टाइम्स ग्रुप की रिपोर्ट के मुताबिक प्रोजेक्ट से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने के लिए 17.72 करोड़ रुपये खर्च कर पटरियों के नीचे स्पेस को चौड़ा किया जाएगा.

इसके पीछे रेलवे इंजीनियरों का कहना ये बै कि पटरियों के नीचे का स्पेस जितना चौड़ा होता है यात्रा के दौरान उतने ही कम झटके भी लहते हैं.

इसके साथ ही ब्रिज, ओवर हेड वायरिंग को मजबूत किया जाएगा और सिग्नल सिस्टम को भी मजबूत किया जाएगा.

इसके अलावा मुंबई-दिल्ली के बीच स्थाई गति अवरोधकों को भी हटाया जाएगा. इतना ही नहीं पूरे रूट पर आरसीसी की दीवार या वायर फेसिंग भी की जाएगी ताकि कोई ट्रेस पासिंग न हो.

मुंबई सेंट्रल से नागदा के बीच जल्द शुरू होगा काम


जल्द ही पूरे कॉरिडोर में मुंबई सेंट्रल से नागदा के बीच 694 किमी का काम शुरू कर दिया जाएगा. पश्चिमी रेलवे के अधिकार क्षेत्र में आने वाले इस सेक्शन के लिए 931 करोड़ के 80 फीसदी सिविल वर्क के टेंडर फाइनल हो चुक हैं.

यह भी पढ़ें  दिल्ली के लोगों को आश्रम अंडरपास के बाद अब नए फ्लाईओवर का तोहफा, मिलेगी जाम से मुक्ति

फिलहाल 11 टेंडरों पर मुहर लगनी बाकी है. इसके साथ ही बता दें कि ट्रेनों की रफ्तार को 200 किमी तक बढ़ाया जा सकता है. इसके लिए ट्रैक की मजबूती पर काफी ध्यान दिया जा रहा है,