अगर आप घूमने के शौकीन है तो इन जगहों पर जाए, खाना रहना बिलकुल मुफ्त

``` ```

Free travelling tips : अगर आप घूमने जाने का प्लान कर रहे हैं तो आपको 4 ऐसी जगहों के बारे में बता रहे हैं जिसकी यात्रा आप फ्री में कर सकते हैं.

हैरान मत होइए बल्कि जल्दी से जान लीजिए कौन सी हैं वो जगहें.Travelling : अगर आप घूमने फिरने के शौकीन हैं तो आपके लिए भारत की कई ऐसी जगहें हैं जहां पर खाना

रहना सब कुछ मुफ्त मिल सकता है. मतलब कम खर्च में यात्रा का आनंद उठाया जा सकता है. यह सुनकर आपको यकीन नहीं हो रहा होगा. लेकिन यह सच है.

तो चलिए जानते हैं उन स्थानों के बारे में जहां की ट्रिप प्लान (free trip) करते हुए बजट को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है.

क्योंकि दो सबसे जरूरी चीजें आपको मिल ही रही हैं फ्री में वो है खाना और रहना. जो लोग कम बजट होने के कारण अपने मन को घूमने की तमन्ना को दबा देते हैं

यह भी पढ़ें  दिल्ली-रोहतक रेलवे लाइन पर एक मालगाड़ी के 8 डिब्बे पटरी से गए उतर, इस रूट पर सारी ट्रैन रद

उनके लिए यह बढ़िया विकल्प है. चलिए फिर, बिना देरी किए जान लीजिए ये टिप्स.

मणिकरण साहिब गुरद्वारा हिमाचल प्रदेश (Himachal pradesh) निकल रहे हैं घूमने तो आप मणिकरण साहिब गुरुद्वारा (Manikaran Sahib Gurudwara) में जाकर रुक सकते हैं.

यहां पर ना सिर्फ आपको खाना रहना बल्कि पार्किंग की भी सुविधा मुफ्त में मिलेगी. अगर आप अपनी गाड़ी से जा रहे हैं तो आपको पार्किंग की टेंशन लेनी की जरूरत नहीं है.

आनंद आश्रम केरल की यात्रा पर निकल रहे हैं तो आपको हरियाली के बीच स्थित यह आनंद आश्रम (Anand ashram) रुकने के लिए बेस्ट है. यहां पर आपको 3 समय खाना मिलेगा.

हालांकि यह भोजन कम तेल मसालों से तैयार किए जाते हैं जो आपके सेहत को खराब होने से बचाए रखेगा.

गीता भवन
ऋषिकेश घूमने जाने का मन बना रहे हैं तो गीता भवन (Gita Bhawan) में जाकर रुक सकते हैं. यह आश्रम 1000 कमरों का है.

यहां पर सत्संग और योग का भी सेशन कराया जाता है. यह गंगा नदी के किनारे स्थित है. यहां से आप प्राकृतिक खूबसूरती का भी आनंद उठा सकते हैं.

ईशा फाउंडेशन
यह फाउंडेशन कोयंबटूर से लगभग 40 किलो मीटर की दूरी पर है. यहां पर भगवान शिव की एक खूबसूरत स्टैच्यू भी है. यहां पर आ अपनी स्वेच्छा से दान कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें  जेवर और दिल्ली को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को जोड़ने वाली मेट्रो को मिली मंजूरी,एनसीआर का सबसे बड़ा रूट होगा

ईशा फाउंडेशन (Isha Foundation) सामाजिक कार्यों की दिशा में काम करती है.